Anand Mahindra ( आनंद महिन्द्रा ) की जीवनी

| |

anand mahindra
anand mahindra biography in hindi

Anand Mahindra ( आनंद महिन्द्रा ) की जीवनी ।

Anand Mahindra ( आनंद महिन्द्रा ), महिन्द्रा & महिन्द्रा ग्रुप के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक हैं। महिंद्रा & महिंद्रा ग्रुप स्थापना 1945 में इनके दादाजी जगदीश चन्द्र महिंद्रा और उनके भाई कैलाश चन्द्र महिंद्रा ने एक इन्वेस्टर मालिक गुलाम मोहम्मद के साथ लुधियाना में की थी। उनके दादाजी के बाद यह बिजनस उनके पिताजी हरीश महिंद्रा और अंकल केशव महिंद्रा ने संभाला। मालिक गुलाम मोहम्मद 1947 में पार्टीशन के बाद पाकिस्तान चले गए और बाद में वहां की सरकार में वित्त मंत्री बने। उनके अंकल केशव महिंद्रा ने ही ज्यादातर महिंद्रा & महिंद्रा ग्रुप का कामकाज संभल रहे थे।

आज भारत और विश्व में महिंद्रा ग्रुप की पहचान इनके ट्रेक्टर, स्कोर्पियो , बोलेरो औए एसयूवी 500 जैसी गाड़ियों से है, वित्तीय सेवाओं, ट्रेड, इंफ्रास्ट्रक्चर, लोजिस्टिक आदि क्षेत्रों में भी महिंद्रा समूह की भागीदारी है।

Anand Mahindra ( आनंद महिन्द्रा ) का शुरूआती जीवन

अननद महिंद्रा का जन्म 1 मई 1955 को मुंबई महाराष्ट्र की एक बिजनस फॅमिली में हुआ था, इनकी माता का नाम इंदिरा महिंद्रा तथा पिता का नाम हरीश महिंद्रा है, वर्ष 1977 में इन्होने अमेरिका के हावर्ड्स कालेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की, 1981 में इम्हिने हावर्ड्स से ही मास्टर ऑफ़ बिजनस एडमिनिस्ट्रेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन की, इनका विवाह अनुराधा महिंद्रा से हुआ है, जिससे इनकी दो बेटियां है।

महिंद्रा समूह के साथ शुरुआत

वर्ष 1981 में आनंद महिंद्रा भारत लौट आये, यहाँ इन्होने महिंद्रा समूह की कंपनी में वित्त निदेशक के कार्यकारी सहायक के रूप में अपना पहला पद ग्रहण किया, लगभग 10 साल बाद इन्हें महिंद्रा & महिंद्रा ग्रुप का उप प्रबंध निदेशक का कार्यभार सोपा गया, तत्पश्चात वर्ष 1997 में महिंद्रा समूह के निदेशक बनाये गए, इसके बाद वर्ष 2003 में कंपनी के वाईस चेयरमेन बन गए।

वर्ष 2003 में ये कोटक महिंद्रा फाइनेंस लिमिटेड के सह प्रमोटर बने, और इसे कोटक महिंद्रा बैंक में तब्दील कर दिया, आज कोटक महिंद्रा बैंक भारत के निजी क्षेत्र के अग्रिम बैंकों में गिना जाता है।

ऑटो – मोटर सेक्टर में महिंद्रा समूह

आनंद के प्रबंधन में महिंद्रा ने सफलतापूर्वक वेश्विक मानको के अपने उद्देश्य प्राप्त किये, वर्ष 2003 में महिंद्रा & महिंद्रा ग्रुप स्वदेशी तकनीकी पर आधारित एसयूवी ” स्कोर्पोयो ” लांच की जिसने महिंद्रा & महिंद्रा ग्रुओ की अंतर्राष्ट्रीय पहचान स्थापित करने में मदद की।

शेष बाद में….

और भी देखे :

MDH मसाला किंग धर्मपाल गुलाटी (Dharmpal Gulati) की बायोग्राफी

 

ApnisiBaatey