Byju Raveendran की सफलता की कहानी- बायजू लर्निंग App के संस्थापक और सीईओ

| |

Byju Raveendran सफलता की कहानी- बायजू लर्निंग app के संस्थापक और सीईओ

आपने Byju लर्निंग ऐप के बारे में तो सुना ही होगा। आज हम  ‘Byju लर्निंग ऐप ‘ के संस्थापक और सीईओ बायजू रवीन्द्रन के बारे में जानेंगे। वह एक पूर्व शिक्षक हैं, जिन्होंने बाद में उद्यमी का रुख किया।

बायजू रवीन्द्रन का जन्म

Byju Raveendran का जन्म केरल के एक गाँव एझिकोड़ में एक मलयाली परिवार में हुआ था। उनका पालन  एक सयुंक्त परिवार में हुआ है, जिसमें उनके माता पिता, भाई बहन और उनके बच्चे रहते थे। उनकी माता का नाम शोभानवल्ली तथा पिता का नाम रवीन्द्रन है। इनके माता पिता दोनों ही शिक्षक हैं । इनके पिता रिटायर्ड भोतिकी के शिक्षक और माता रिटायर्ड गणित की शिक्षक थी।

जब वे पढ़ाते थे तब उनकी मुलाकात दिव्या से हुई, जो उनकी छात्रा भी थी। उन्होंने दिव्या से शादी की है। उनका एक बेटा है जिसका नाम निश है ।

बायजू रवीन्द्रन की शिक्षा

Byju Raveendran ने अपनी पढाई केरल के एझिकोड़ में मलायम मीडियम स्कूल में हुई उनके माता पिता दोनों यहाँ शिक्षक थे। उन्होंने कुन्नूर के कालीकट विश्वविद्यालय गवर्मेंट इंजीनियरिंग कालेज से मेकेनिकल इंजीनियरिंग में डिग्री प्राप्त की।

खेलो में उनकी बचपन से ही रूचि थी। वह अपने स्कूल के दिनों में क्रिकेट, फुटबाल खेला करते थे। उनके माता पिता ने हमेशा खेलो के प्रति प्रोत्साहित किया।

बायजू रवीन्द्रन का कैरियर 

Byju Raveendran ने मेडिकल या इंजीनियरिंग में अपना कैरियर बनाने का फैसला किया था। उन्होंने  मैकेनिकल इंजीनियर बनने का फैसला किया। अपनी इंजीनियरिंग की पढाई ख़तम करने के बाद बायजू को एक मल्टीनेशनल कंपनी में सर्विस इंजीनियर के रूप में नौकरी मिली। 

वह पढाई में शुरू से ही होशियार छात्र थे। उनके कुछ दोस्तों ने उनसे पढाई में मदद करने को कहा, बायजू गणित ने शुरू से ही अच्छे थे, वह अपने दोस्तों को पढ़ने लगे। 

एक शिक्षक से उद्यमी बनने का सफ़र 

बायजू अपने दोस्तों की एम बी ए की तैयारियां करवाते थे और खुद भी अपनी तैयारी करने लगे। अंतिम परीक्षा में अच्छे मार्क्स आने पर वह आश्चर्यचकित थे। उनके दोस्तों ने उन्हें पढ़ाने और प्रतियोगिता परीक्षा की कोचिंग क्लासेस देने को कहा।

Byju Raveendran को यह आयडिया पसंद आया, वह अपनी हाई पेड सैलरी से स्तीफा देने का फैसला किया और अपनी कोचिंग क्लास शुरू की। शुरू में उन्होंने अपने एक मित्र की छत पर पढ़ना आरम्भ किया, और यही से बायजू की एक सफल उद्यमी बनाने की यात्रा शुरू हो गयी।

बायजू ने शुरू में केवल एमबीए छात्रों को पढ़ने का फैसला किया , वे छात्रों को एक सप्ताह तक फ्री में पढ़ाते थे, जिससे छात्र कोचिंग की उपयोगिता को समझ सके।

समय के साथ उनके छात्रों की संख्या भी बढ़ने लगी। साल 2011 में उन्होंने ” बायजू थिंक एंड लर्न प्राइवेट लिमिटेड ” नाम से एक एजुकेशन टेक्नोलोजी फार्म शुरू की। जिसकी टैगलाइन ” सीखने के साथ प्यार में पड़ना ” है।

Byju Raveendran ने अपनी कक्षा को छत से कक्षा में बदल दिया था। बायजू ने कैट के लिए ऑनलाइन वीडियो आधारित शिक्षा कार्यक्रम शुरू किया। साल 2009 शिक्षण में प्रोद्योगिकी को शुरू किया। बायजू की स्टूडेंट्स में लोकप्रियता इतनी अधिक थी की उसके पास मुंबई, दिल्ली, पुणे, बेंगलोर,और चेन्नई समेत देश के विभिन्न राज्यों से 20000 से अधिक स्टूडेंट्स थे।

BYJU Learning Mobile App

Byju Raveendran ने छात्रों की मदद के लिए  Learning Mobile App बनाने का फैसला किया, जिसमे उनकों चार साल का समय लगा। लर्निंग App का मकसद कक्षा 4 से कक्षा 12 तक के छात्रों को ऑनलाइन कोचिंग प्रदान करना था। बायजू लर्निंग एप्लीकेशन भारत की सबसे बड़ा ऑनलाइन App है। लर्निंग एप्लीकेशन की लोकप्रियता छात्रों में बहुत तेजी से बढ़ी। मोबाइल एप्लीकेशन की पहुँच छोटे शहरों से लेकर महानगरों में लगभग 2000 शहरों तक है।

लर्निंग एप्लीकेशन कैट , नेशनल एलिजिबिलिटी एंड एंट्रेंस टेस्ट (NEET) , सिविल सर्विसेज परीक्षा, ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट (GMAT), जॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (JEE) और ग्रेजुएट रिकॉर्ड एग्जामिनेशन (GRE) के लिए भी कोचिंग देता है।

आज बायजू लर्निंग App सभी आयु वर्ग के छात्रों के लिए सबसे पसंदीदा शिक्षा मोबाइल एप्लीकेशन बन गया है।

ApnisiBaatey