Goal Setting for Sure Success- लक्ष्य निर्धारण कैसे करें

| |

Goal Setting for Sure Success- लक्ष्य निर्धारण क्या है और इसे कैसे करतें है

दोस्तों अपने जीवन में हम सभी आगे बढ़ना चाहते यानी सक्सेस चाहते है , जो जहाँ पर भी है वहां से आगे बढ़ना चाहता है। पर क्या बिना अपना लक्ष्य निर्धारित किये आप आगे बढ़ सकते है इसका जवाब है नहीं, लक्ष्य निर्धारण क्या है इसे क्यों करते है, कैसे करते है आज इसके बारे में बतायेंगें। 

Goal Setting ( लक्ष्य निर्धारण ) की महत्ता क्या है ?

आपने महाभारत काल के उस किस्से के बारे में जरूर सुना या पढ़ा होगा जिसमे गुरु द्रोणाचार्य सभी राजकुमारों शिक्षा दीक्षा पूरी होने के उपरांत उनकी धनुर्विद्या परीक्षा लेते है जिसमे एक पेड़ पर बैठी चिड़िया की आँख पर निशाना नीचे तेल से भरे बर्तन में देखकर लगाना होता है, गुरु द्रोणाचार्य सभी राजकुमारों को एक एक करके चिड़िया की आँख पर निशाना लगाने को कहते हें, उससे पहले वो सभी राजकुमारों से एक सवाल पूछते हें, आपको क्या दिखाई दे रहा है ? Goal setting की महत्ता इससे समझी जा सकती है।

पहला राजकुमार आता है उससे द्रोणाचार्य यही सवाल पूछ्तें हे, आपको क्या दिखाई दे रहा हे, जवाब आता हे उसे नीला आसमान और उसमे उड़ते परिंदे, पेड़ पौधे आदि दिखाई दे रहे है, गुरु राजकुमार को रोक देतें है, फिर दुसरे राजकुमार को बुलाते हे उससे भी यही सवाल पूछतें है जवाब आता उसे पेड़ दिखाई दे रहा है उस पर लगीं पत्तियां और फल दिखाई दे रहे है, गुरु उसे भी रोक देतें है, फिर तीसरे राजकुमार को बुलाते हें, और उससे भी यही सवाल करते हें जवाब आता है उसे उसे पेड़ की टहनियां, और उसपर बैठी चिड़िया दिखाई दे रही हे गुरु द्रोण उसे निशाना लगाने से रोक देतें हें। गुरु द्रोण इस तरह से किसी के भी जवाब से संतुष्ट नहीं होतें, अंत में वो अर्जुन  को बुलातें हें औए उससे भी यही सवाल करते हें, अर्जुन जवाब देता हे उसे चिड़िया की आँख दिखाई दे रही है, गुरु द्रोण अर्जुन को निशाना लगाने की आज्ञा देते हे औए अगले ही पल अर्जुन का बाण चिड़िया की आँख भेदता हुआ पार निकल जाता है। 

इस पूरे उदाहरण के द्वारा हम goal setting की महत्ता को समझ सकते हें, कि किस तरह goal setting किये बिना सफलता संभव नहीं है। अर्जुन ठीक तरह से Goal Setting के कारण सफल रहते है और सर्वश्रेष्ठ धनुर्धारी बनाते हें।

Goal Setting कैसे करतें है

Goal Setting की टेकनीक की बात करें तो  S.M.A.R.T टेकनीक बेस्ट जो आजकल कॉरपोरेट जगत में बहुत प्रचलित हें,

जो  S – Specific, M- Measurable, A- Achievable, Realistic, और Time-Bound आदि को मिलकर बना है।

आइये अब एक एक करके इनका मतलब भी समझ लेते हें,

Specific

Specific का मतलब आपका Goal- Special, Defined, Clear होना चाहिए, में कल मूवी देखने जाऊंगा, ये स्पेशल नहीं है, कोई भी मूवी देखने जा सकता है, लेकिन में 12th मे 95% से अधिक अंक लेकर आऊंगा, क्योंकि हर कोई ऐसा नहीं कर सकता हे अतः इसे goal की श्रेणी में रख सकतें हे जो स्पेशल भी हे, defined औए clear भी है।

Measurable

आपका goal Measurable होना चाहिए यानि कि नापा जा सकने योग्य, उपरोक्त उदाहरण को ही लेते हे, 95% अंक लाने के लिए आपको आपना syllabus 100% पूरा करना पड़ेगा, ये कोई एक दिन की तेयारी से तो होगा नहीं, इसके लिए सप्ताह दर सप्ताह तेयारी करनी पड़ेगी और syllabus के पूर्ण होने और रिविसन भी करना होगा, और इसकी मानिटरिंग भी आप जरूर करेंगे यानी आप तेयारी भी करेंगे और उसे नाप भी सकेंगें।

Achievable

आपका Goal Achievable भी होना चाहिए, यानि कि उसे हम प्राप्त कर सके goal ऐसा होना चाहिए, अब फिर से उपरोक्त उदाहरण को लेते हें इसमें अगर आपने 100% मार्क्स लाने का goal सेट किया, तब क्या हो सकता हे ये आपके लिए तनाव का कारण बन सकता हे, क्या ये प्राप्त कर सकने योग्य हे, goal ऐसा होना चाहिए जो एक टाइम फ्रेम के अन्दर प्राप्त लिया जा सके।  

Realistic

आपका goal आपकी प्रकृति , आपके interest के अनुरूप ही होना चाहिए, इसको ऐसे समझते हें, आप क्रिकेट के बढ़िया खिलाड़ी हे, और आप आप सिंगर नंबर 1 बनाना चाहते हे। आप सभी जानते हें सिंगर बनाने के लिए क्रिकेट की ही तरह स्पेशल क्वालिटी की जरुरत है, आपका interest पहले से क्रिकेट में है, सिंगिंग आपको पसंद हे लेकिन क्रिकेट जैसा नहीं। आप सिंगिंग में बहुत जल्दी बोर होने लगेंगे, आपके प्रयास पूरे नहीं बन पायेंगें, फलस्वरूप सफलता के मौके भी कम हो जायेंगे।

 Time-Bound

आपका Goal एक निश्चित समयावधि अथवा पीरियड के लिए होना चाहिए, आपका goal एक Deadline के साथ होना चाहिए, deadline होने से होगा ये कि आप पूरे मन और शक्ति से प्रयास कर सकेंगें, जिससे आपके सफलता के chance भी बढ जायेंगे। आपका goal, time-bound न होने आपके प्रयासों में कमी आ सकती हे, जो आपके लिए एक बाधा की तरह काम करेगा।

इस तरह से आप यदि आपने goal setting कि तो निश्चित तौर पर आपके प्रयास सही तरह से बन पड़ेंगे और आप अपना goal प्राप्त कर सकेंगे।

और भी पढ़ें

Time Management for Success-टाइम मैनेजमेंट कैसे करें

Power of Positive Thinking – सकारात्मक सोच की शक्ति 

ApnisiBaatey