जैक मा – Jack Ma Motivational story in Hindi

| |

Jack Ma Motivational story in Hindi

जैक मा एक पूर्व इंग्लिश टीचर जिन्होंने विश्व के सबसे बड़े e कामर्स बिजनेस ग्रुप अलीबाबा डाट काम की स्थापना की।


जैक मा का प्रारंभिक जीवन

जैक मा जन्म 10 सितम्बर, 1964 को चीन के एक छोटे से गाँव हन्गझाओ में हुआ था। जैक मा के माता पिता पारंपरिक गाने गा और बजा कर काम किया करते था। जैक मा को बचपन से ही अंग्रेजी सिखने की बहुत इच्छा थी इसलिए वो हन्गझाओ के इंटरनेशनल होटल मे साइकिल से जाते थे जहाँ बड़े-बड़े विदेशी नागरिक आते थे।

जैक मा अंग्रेजी सीखने के लिए उन लोगों से पहले अपनी टूटी-फूटी अंग्रेजी में बात किया करते थे। चीन में अंग्रेजी भाषा को उतना ज़रूरी नहीं माना जाता था। परन्तु जब जैक मा ने कुछ अच्छी अंग्रेजी बोलना सिख लिया तो उन्होने दुसरे देशों से आपने वाले विदेशी लोगों के लिए एक टूरिस्ट गाइड के रूप में काम किया। ऐसा करते-करते उनकी अंग्रेजी बहुत अच्छी हो गयी। उन्होंने यह काम लगभग 9 वर्ष तक किया।

 

 टूरिस्ट गाइड का काम करते-करते उनका एक अच्छा विदेशी मित्र बना। जैक मा का असली नाम मा यूँ था पर चीनी भाषा में इसे बोलना बहुत ही मुश्किल था इसलिए उस विदेशी मित्र ने उनका नाम जैक मा रख दिया तब से उनको जैक के नाम से जाना आने लगा। उसके बाद जैक माँ ने नौकरी ढूँढना शुरू किया।

जैक मा का संघर्ष

उन्होंने लगभग 30 से भी ज्यादा नौकरियों के लिए कोशिश किया पर उन्हें हर जगह से बस नाकामी ही मिली। उन्होंने एक बार पुलिस की नौकरी के लिए कोशिश की पर उन्हें देखते ही मना कर दिया गया।

 

जब पहली बार KFC का Restaurant उनके शहर में पहली बार खुला तो उन्होंने KFC में भी नौकरी के लिए कोशिश की पर वहां जिन 24 लोग नौकरी के लिए गए थे उनमें से 23 लोगों को नौकरी मिल गयी लेकिन एक मात्र उन्हें नहीं मिली। इससे यह पता चलता है की उनका जीवन कितना संघर्षपूर्ण था।

जैक मा गए अमरीका

जैक मा ने 1994 में पहली बार इन्टरनेट के विषय में सुना। वह 1995 में अपने दोस्तों की मदद से इन्टरनेट के विषय में जानकारी लेने के लिए अमरीका गए। अमरीका में उन्होंने पहली बार इन्टरनेट देखा और चलाया। उन्होंने इन्टरनेट पर सबसे पहले Bear शब्द को Search किया, वहां उन्हें Bear शब्द के बारे में अन्य-अन्य websites से कई प्रकार की जानकारी मिली। उन्होंने जब अच्छे से ध्यान दिया तो देखा की इन्टरनेट पर चीनी भाषा में इसके विषय में कोई जानकारी नहीं है और इस प्रकार उनके दिमाग में एक आईडिया आया।

यहाँ तक की उन्होंने चीन देश के विषय में भी इन्टरनेट पर search किया जिसके विषय में भी internet पर उनको search करने पर ज्यादा कुछ नहीं मिला। अपने देश की जानकारी इन्टरनेट पर न पा कर जैक बहुत दुखी हुए क्योंकि उन्हें लगा की अन्य देशों के मुकाबले टेक्नोलॉजी क्षेत्र में चीन बहुत पीछे है।

जैक मा ने चीन की जानकारी की पहली वेबसाइट बनायी

जैक मा और उनके अमरीकी मित्र ने मिलकर चीन की जानकारी से भरा हुआ अपना एक पहला वेबसाइट बनाया । वेबसाइट बनाने के कुछ ही घंटों के अन्दर उनको कुछ चीनी लोगों के ईमेल आने लगे। यह देख कर जैक मा को इन्टरनेट की ताकत का पता चला।

उसी वर्ष 1995 में वह उनकी पत्नी और क्कुह दोस्तों ने मिलकर कुछ पैसे जमा किये और एक वेबसाइट बनाने की कंपनी शुरू की थी जिसका नाम उन्होंने रखा China Yellow Pages. इस कंपनी को शुरू करने के लिए सभी दोस्तों ने मिल कर लगभग 20000$ जमा किये थे। इस कंपनी का मुख्य काम था दूसरी कंपनियों के लिए वेबसाइट बनाना। 3 साल के अन्दर उसी कंपनी को 3 लाख $ का मुनाफा हुआ और वह और उनकी टीम ने उसके बाद चीन की कंपनियों के लिए भी वेबसाइट बनाना शुरू किया।

जैक मा का कहना था की जब वे अपने दोस्तों के साथ वेबसाइट का काम करते थे तो उन्हें टीवी और ताश खेलना पड़ता था। ऐसा इसलिए क्योंकि उस समय का इन्टरनेट स्पीड इतना स्लो हुआ करता था की आधा पेज बनाने में 3.5 घंटे लग जाते थे। जैक मा ने अपने 33 वर्ष की आयु में अपना पहला कंप्यूटर ख़रीदा था।

 

1998-1999 में China International Electronic Commerce Center द्वारा स्थापित एक IT कंपनी में भी काम किया पर उसके बाद वे वहां से काम छोड़ कर अपने 17 दोस्तों की टीम के साथ दोबारा अपने जन्म स्थान Hangzhou लौट आये।

जैक मा ने अलीबाबा ग्रुप की शुरुवात की

उसके बाद उन्होंने अपने घर बैठे अपने 17 दोस्तों के साथ मिलकर अपना पहला B to B eCommerce वेबसाइट की शुरुवात की थी।

 

जैक मा कहते हैं वो San Fransisco के एक कॉफ़ी शॉप में बैठे थे। वैसे तो अपनी वेबसाइट का नाम वो Alibaba रखने का उनका मन पहले से ही था पर उन्होंने शॉप के एक Waitress से पुछा – क्या तुम अलीबाबा के विषय में जानते हो? तो जवाब आया खुल जा सिम-सिम। उसके बाद उन्होंने कई भारतीय, अमरीकी और अन्य देशों के लोगों से भी वही सवाल पुछा तो उन्होंने देखा कि सभी लोगों को Alibaba के विषय में पता था।  बस उसके बाद उन्होंने अपनी कंपनी को Alibaba Groups के नाम से शुरू किया।

उसके बाद से Alibaba Groups ने पुरे विश्व में अपना नाम बना लिया और 240 देशों से भी ज्यादा देशों में इसका कारोबार शुरू हो गया। सितम्बर 2014 के आंकड़ों के अनुसार Alibaba कंपनी ने New York Stock Exchange के अनुसार 25 Billion $ की कंपनी खड़ी कर दी जो की एक बहुत बड़ी सफलता थी। 10 सितम्बर 2017 Forbes के Report के अनुसार जैक मा 17वें की कुल कमाई 37.6 Billion USD है।

 

2017 के report   के अनुसार आज इस कंपनी में 50000+ लोग काम कर रहे हैं। Alibaba Groups के सभी सहायक कंपनियां – Alibaba.com, Guangzhou Evergrande Taobao F.C., Taobao, Tmall, UCWeb, AliExpress, Juhuasuan.com, 1688.com, Alimama.com, Ant Financial, Cainiao, Lazada, Youku Tudou, Alibaba Cloud

 

आज वह हम सब को एक प्रेरणा देते हैं और सिखाते हैं की चाहें जीवन में आपके जितनी भी मुश्कलें या असफलताएं आ जाएँ कभी भी हार नहीं मनना चाहिए क्योंकि बार-बार असफलता झेलने वाले व्यक्ति को ही सफलता मिलती।

 

यह पोस्ट आपको कैसी लगी। कृपया कमेंट बाक्स में कमेंट जरूर करे। आपके कमेंट और सुझावों का स्वागत है।

और भी पढ़ें :

मुकेश अंबानी – Mukesh Ambani -Motivational story in Hindi.

बिल गेट्स – Motivational Story in Hindi-Bill Gates.

स्टीव जॉब्स – Steve Jobs Motivational story in Hindi.

जेफ बेजोस – Jeff Bezos Motivational story in Hindi.

जैक मा – Jack Ma Motivational story in Hindi.