Kishore Biyani – फ्यूचर ग्रुप के संथापक की सक्सेस स्टोरी

| |

किशोर बियानी की सक्सेस स्टोरी- फ्यूचर ग्रुप के संस्थापक

यह kishore Biyani की सफलता की कहानी हे। जो फ्यूचर ग्रुप के सीईओ और रिटेल मार्किट बिग बाज़ार के संथापक हे। भारत में किशोर बियानी और Big Bazar के नाम से हर कोई परिचित हे। kishore Biyani की सफलता की कहानी आपको अवश्य प्रेरित करेगी।

Kishore Biyani एक भारतीय उद्यमी और ब्यावासयी हे। वह फ्यूचर ग्रुप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी  एवं संस्थापक हे। वह Big Bazar और पैंटालून जैसे रिटेल ब्यावासयों के संथापक भी हे।

Kishore Biyani का प्रारंभिक जीवन एवं शिक्षा

Kishore Biyani का जन्म 9 अगस्त 1962 को राजस्थान के जोधा में एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। उनका परिवार शुरू से ही ब्यवसाय में रहा हे। उनके दादा राजस्थान से मुंबई आ गए थे, मुंबई में उनका कपडे का ब्यावसय था। किशोर शहर के प्रतिष्ठित एच आर कॉलेज से बीकॉम किया हे।

शुरू में काफी समय उन्होंने घुमने फिरने और वास्तविक जीवन को समझने में बिताया, उनका झुकाव शुरू से ही ब्यवसाय की तरफ था। उन्होंने अपने पिता के साथ काम करना शुरू किया।किशोर ने कम उम्र में ही पतलूने बनानी शुरू कर दी थी।अपने समर्पण और कड़ी मेहनत से उन्होंने सफलता हासिल की।

Kishore Biyani घंटों ग्राहकों के बीच उनको समझने की कोशिश करते। वे ग्राहकों के मनोविज्ञान को समझने की कोशिश में लगे रहते थे। हर दिन वह कुछ न कुछ सीखने की कोशिश करते थे। कभी क्रिकेट मेच देखने जाना हो तो वे पवेलियन की वजाय गेलरी का सस्ता टिकट लेना पसंद करते हे, वे लोगो के बीच जाकर उनका टेस्ट पता करने की कोशिश करते हे। Consumer की जरूरत को जानने के लिए वह हर परेशानी को झेल जाते हे। वे लोगों की जरूरतों को समझाने का प्रयास करते हे।

उन्होंने अपने भाइयों के साथ मिलकर ब्यवसाय शुरू किया। उनका ” बंसी सिल्क मिल्स ” नाम से कपडे का ब्यवसाय था। वे ब्यवसाय में काम करने के पुराने तरीकों से खुश नहीं थे। उन्हें उनमे काफी कमियां नज़र आ रहीं थी। उन्होंने बिजनस में Advertising और मार्केटिंग के महत्व को समझ लिया था, उन्होंने काम करने के तरीके को और ब्यवस्थित तरीके से करना शुरू किया। अपने बिजनस में अब उन्होंने inovation, marketing, और Advertising को शामिल किया

22 साल की उम्र में उन्होंने संगीता राठी से शादी की, उनके दो बच्चे भी हे, अश्नी बियानी व अवनी बियानी । उनकी बेटी अश्नी ग्रुप की इनोवेशन और सेल्स डायेरेक्टर हे।

अब उन्होंने कपड़ो के निर्माताओं के लिए फेशनेबल कपडे बनाने शुरू किये। इसके बाद उन्होंने आपने ब्रांड के लिए काम करना शुरू किया।

1987 में उन्होंने ट्राउजर निर्माण का काम और अपने ब्रांड कपडे बनाने शुरू किये, और मेंस वेयर निर्माण ब्यवसाय की शुरुआत की।इसके बाद उन्होंने “मंज़ वेयर प्राइवेट लिमिटेड” नाम से अपनी कंपनी शुरू की। उन्होंने अपना ब्रांड नाम पैंटालून बनाया।

बाद में, किशोर ने अपने “पैंटालून” ब्रांड को एक नया आयाम दिया और फ्यूचर ग्रुप बनाया। उन्होंने फ्रैंचाइज़ी मॉडल का उपयोग करते हुए खुदरा रूप में “पैंटालून” ब्रांड का विस्तार किया। 

बिग बाज़ार की स्थापना 

इसके बाद उन्होंने साल 2001 में बिग बाज़ार की नींव रखी। किशोर ने फेक्ट्री ,फ़ूड बाज़ार और बिगबाजार जेसे कई ब्रांडों को फ्यूचर ग्रुप से जोड़ा।

1992 में किशोर ने फेक्ट्री सुधार, विस्तार और डिस्ट्रीब्यूशन के लिए धन शेयर मार्केट से जुटाया।1994 तक पैंटालून फ्रैंचाइज़ी का कारोबार 9 मिलियन रुपये से अधिक हो गया था।

साल  1997 में Kishore Biyani ने कोलकाता में अपना पहला Departmental Store खोला। ये लगभग 1000 squire feet में था । 2001 से Departmental Stores की श्रृंखला शुरू होकर आज देश भर में लगभग 200 स्टोर्स हें। Big Bazar प्रति सप्ताह 20 लाख से अधिक ग्राहकों की सेवा करता हे, जबकि पेंटालून में 75 शहरों के 1100 स्टोरों में 30000 हजार से अधिक कर्मचारी हें। इसमें हर साल घूमने जाने वालों की संख्या लगभग 30 करोड़ हे।  

आशा करता हूँ कि किशोर बियानी की कई लोगों के लिए प्रेरणास्रोत बनेंगें

 

और भी देखे :

अशोक सुता- Ashok Soota- Co Founder of Happiest Minds

ApnisiBaatey