खुद को पहचानों। Know Yourself Meaning in Hindi

| |

खुद को पहचानों । Know Yourself Meaning in Hindi.

Know yourself meaning in hindi
Know yourself meaning in hindi

सफलता पाने के लिये दोस्तों खुद को जानना ( Know yourself meaning in hindi ) बेहद जरूरी है। सफलता के जिस प्रोग्राम को आप जमीन पर उतारना चाहते है, उसके लिये आवश्यक कारको मे से एक आप स्वयं है।

IBM Institute of Business Value की एक रिपोर्ट मे कहा गया है कि 90 भारतीय स्टार्टअप 5 साल के भीतर ही फेल हो जाते हैं, इसके लिये उन्होंने इनोवेशन की कमी और बिजनेस माडल का Unique न होना बताया गया है।

यह मानव स्वभाव है कि वह दूसरों के बारे मे ज्यादा से ज्यादा जानकारी रखना चाहता है। वह अपने आपने पडोसियों मित्रों और सहकर्मी के बारे मे अधिक से अधिक जानने का दावा करता है। लेकिन जब उसे खुद के बारे मे जानने की बात की जाय तो उसे यह सब मिथ्या लगता है। उसके अनुसार वह अपने बारे मे सब कुछ जानता है।

अपने बारे मे सब कुछ जानना जरूरी है ( Know Yourself Meaning in Hindi)

यहां हम आध्यात्मिक नहीं भौतिकवादी बात कर रहे है। अगर हम किसी ब्यक्ति से किसी विषय पर बात कर रहे है तो वह हमे उस विषय पर अपने दृष्टिकोण से अवगत करायेगा। जोकि सम्पूर्ण सत्य नहीं है तो फिर सत्य क्या है,

मान लीजिए आईएएस के दो सफल प्रतिभागियों का आप इंटरव्यू ले रहे है। और आपने दोनों से एक ही सवाल पूछा कि आइएएस मे सफल होने के लिए कितने घंटे पढना जरूरी है। एक ने उत्तर दिया आठ घंटे प्रतिदिन, और दूसरे ने कहा बारह घंटे प्रतिदिन। अब मान लीजिये कोई तीसरा ब्यक्ति आपसे बिल्कुल यही सवाल पूछता है, तो आप उसे क्या बतायेंगे, आठ घंटे या फिर बारह घंटे।

कहने का मतलब सिर्फ इतना है कि सफलता पाने का कोई फारमूला नहीं है। और हम वही सबसे पूछते रहते है। सफलता का सीधा संबंध आपकी कैपेबिलिटी से है।

आपकी फिजिकल कैपेबिलिटी, आर्थिक कैपेबिलिटी, सामाजिक कैपेबिलिटी इत्यादि सब हमारी सफलता मे अपनी भूमिका अदा करते हैं। अगर ऐसा नहीं होता तो फिर दो ब्यक्तियों के आइएएस को पास करने के लिये दो जवाब नहीं होते एक ही जवाब होता आठ या फिर बारह घंटे।

सफलता पाने के लिये अहम जरूरत:(Know Yourself Meaning in Hindi)

दोस्तों कोई ब्यक्ति अगर किसी बिजनेस को करता है, तो वह यह सोच कर ही करता है वह इसमे सफल होगा। लेकिन जैसा कि उपर बताया गया है, 90 प्रतिशत स्टार्टअप फेल हो जाते है।

मेरा स्पष्ट मानना है कि किसी भी बिजनेस की सफलता उसके तीन कारकों पर निर्भर करता है। एक यूनिक बिजनेस माडल, दो इनोवेशन करते रहना और तीसरा खुद के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी। अगर आप पहले दो कंडीशन को भी फुल फिल करते है तो भी आपके सफलता के लिये तीसरे कारक को पूरा करना बहुत जरूरी है।

खुद को जाने बगैर , आप कौन है/ Who are you , अपनी क्षमताओं का आकलन करे बगैर किसी भी बिजनेस मे सफलता पाना बहुत मुश्किल है। एक बार अपनी क्षमताओं का आकलन करने के बाद की गयी प्लानिंग ही हमे सफलता दिला सकती है, आप प्लानिंग के क्रियान्वयन को ठीक तरह से सम्पन्न कर सकते है। अकेले अच्छी प्लानिंग सफलता की गारंटी नहीं है।

और देखें:

जीतने के लिये खुद पर भरोसा रखे।

टॉप 10 मोटीवेशनल स्पीकर्स।

बेहद पावरफुल है अवचेतन मन। 

5 बेहतरीन बुक्स, आपको जरूर पढ़नी चाहिए।

वाणी की मधुरता : सफलता की कुंजी।

 

Leave a Comment