नोब्रोकर की सफलता की कहानी- NoBroker Success Story।

| |

नोब्रोकर की सफलता की कहानी- NoBroker Success Story

नोब्रोकर की सफलता ( NoBroker success story ) बैंगलोर बेस्ड रियल स्टेट सर्च पोर्टल है, जो किरायेदार और प्रोपर्टी ओनर को मिलाने का काम करता है, जिसमे खरीददार और बिक्रेता आमने सामने किसी सौदे को पूरा करते है। NoBroker.com पर कोई ब्रोकर अपनी प्रोपर्टी पोस्ट नहीं कर सकता है।

Nobroker success story in hindi
Nobroker success story

रियल स्टेट सैक्टर मे किसी सौदे को सम्पन्न करना काफी मुश्किल और  चुनौती भरा काम होता है। प्रोपर्टी खोजने, सेलर से नेगोशिएशन, पेपरवर्क काफी चुनौती पूर्ण होता है, इन सभी बातों को ध्यान मे रख कर यह स्टार्टअप शुरु किया गया है।

आज नो ब्रोकर के पास 70 लाख कस्टमर्स हैं, हर महीने 1.5 लाख प्रोपर्टी इसकी वेबसाइट मे जुडती रहती हैं, 15 हजार के करीब सौदे हर महीने सम्पन्न होते हैं।

आइये जानते है नोब्रोकर की सफलता ( BoBroker success story ) मे इसके फाउंडर के बारे मे, इसके बिजनेस माडल, इसके रेवेन्यू, इसके फंडिंग और कम्पटीटर के बारे मे।

नोब्रोकर की फाउंडर टीम

नोब्रोकर की स्थापना अमित कुमार अग्रवाल, अखिल गुप्ता और सुभाष गर्ग ने 2014 मे की थी।

अमित कुमार अग्रवाल IIT कानपुर से ग्रेजुएट और कंपनी के सीईओ हैं। इससे पहले वह आस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड बैंक मे एसोसिएट डायरेक्टर के पद पर थे।

अखिल गुप्ता IIT मुम्बई से ग्रेजुएट है। वे कंपनी मे CPTO ( Chief Product & Technology Officer ) हैं।

सुभाष गर्ग IIT मुम्बई से ग्रेजुएट और कंपनी के CBO हैं।

नोब्रोकर बिजनेस माडल (NoBroker Success Story- It’s Business Model)

जैसे कि इसके नाम से ही विदित है ब्रोकर यानि मिडिलमैन की भूमिका को समाप्त किया गया है , नोब्रोकर इसमे होम बायर्स और सेलर्स को डायरेक्ट डील करने मे मदद करता है। इसमें बिना कोई ब्रोकरेज देकर प्रोपर्टी को खरीदा या बेचा जा सकता है अथवा प्रोपर्टी को किराये पर लिया या दिया जा सकता है।

यह  किरायेदार / मालिकों या खरीदने / बेचनेवाले को Subscription Business Model की सुविधा प्रदान करता है।

सीईओ अमित कुमार अग्रवाल का कहना है ” वेबसाइट पर आप किसी भी प्रोपर्टी को बिना ब्रोकर के खरीद, बेच अथवा रेंट पर दे सकते हैं।”

नोब्रोकर रेवेन्यू माडल (NoBroker Success Story- It’s Revenue Model)

नोब्रोकर का रेवेन्यू दो तरीकों से आता है, पहला Business subscription जिसमें न्यूनतम शुल्क 999 ₹ है, कंपनी का 70% रेवेन्यू इसी से आता है।

दूसरा यह किरायेदार या खरीददार को पेपर वर्क/ डाक्यूमेंटेशन और शिफ्टिंग सर्विसेस भी देता है, इसके लिये वह चार्ज करता हैं।

नोब्रोकर फंडिंग और इन्वेस्टर्स (NoBroker Success Story- Funding & Investors)

नोब्रोकर ने अभी तक $215 मिलियन फंडिंग के जरिये जुटाये हैं। नोब्रोकर के इन्वेस्टर्स मे मुख्यतः SAIF Partners, Tiger Global Management, General Atlantic हैं। 2019 की फंडिंग के बाद नोब्रोकर की वैल्यूएशन $311 मिलियन की है।

इसके प्रतियोगियो मे मुख्यतः Housing.com और PropTiger हैं।

और भी देखें:

Urban Ladder ( अर्बन लेडर ) सफलता की कहानी।

Razorpay ( रेजरपे )की सफलता की कहानी।

Cars24 ( कार्स24 ) की सफलता की कहानी।

Bira91 की सफलता की कहानी।

1 thought on “नोब्रोकर की सफलता की कहानी- NoBroker Success Story।”

Comments are closed.

ApnisiBaatey