राहुल शर्मा की सफलता की कहानी। Rahul Sharma Success Story.

| |

Rahul Sharma Success Story. राहुल शर्मा की सफलता की कहानी।

राहुल शर्मा ( Rahul Sharma Success Story ) का जन्म 14 सितंबर 1975 को दिल्ली मे हुआ था, वे माइक्रोमैक्स को सह- संस्थापक हैं। उन्होंने राजेश अग्रवाल के साथ साल 2000 मे Micromax की स्थापना की। राहुल शर्मा इसके सीईओ हैं। माइक्रोमैक्स का हेडक्वॉर्टर गुरूग्राम मे है। यह मोबाईल फोन बनाती है। यह भारत मे सबसेे अधिक बिकनेे वाला देशी ब्रांड है।

 

Rahul sharma success story
Rahul sharma success story

राहुल शर्मा बायोग्राफी ( Rahul Sharma Success story in Hindi, Co- Founder of Micromax, Age, Wife, Net worth).

नाम : राहुल शर्मा

जन्मदिन : 14 सितंबर 1975

जन्म स्थान : दिल्ली, भारत

नागरिकता : भारतीय

उम्र : 46 साल ( 2021 में )

पत्नी : असिन ( अभिनेत्री )

बच्चे : एक बेटी अरिन ( 2017 मे जन्म )

कार संग्रह : बेन्टली सुपरस्पोर्टस, BMWX6, मर्सिडीज, राल्सराईस घोस्ट

नेट वर्थ : 1400 करोड़ रूपये।

राहुल शर्मा ने अपनी मेहनत और काबिलियत के दम पर वह मुकाम हांसिल कर लिया है , जहां वे लक्जीरियस लाइफ जी सकते है, लेकिन उनका बचपन ऐसा कतई नहीं  था। उनके पिता स्कूल मे अध्यापन का कार्य करते थे। राहुल बचपन मे पब्लिक ट्रंसपोर्ट का इस्तेमाल करते थे।

राहुल शर्मा की शिक्षा:

राहुल शर्मा ने नागपुर विश्वविद्यालय से मैकेनिकल इंजीनियरिंग मे स्नातक किया है, उसके उपरांत उन्होंने कनाडा मे B. Com किया है।

कैरियर की शुरूआत 🙁 Rahul Sharma Success Story ).

माइक्रोमैक्स की स्थापना से पहले राहुल कई सारे बडे ब्रांडों के साथ काम कर चुके थे, जैसे माइक्रोसॉफ्ट, एक्सबॉक्स, प्रोक्टर एंड गैम्बल ,शा कम्युनिकेशन टेलीविजन सर्विसेज आदि। यहां पर उन्हें प्रोडक्ट टेक्नोलॉजी, प्रोडक्ट लांचिंग, और सेल्स का बहुत अच्छा नालेज हो गया था जो उन्हें माइक्रोमैक्स की स्थापना के समय बहुत काम आया।

माइक्रोमैक्स की स्थापना:

राहुल ने वर्ष 2000 मे राजेश अग्रवाल, सुमित अरोरा व विकास जैन के साथ माइक्रोमैक्स इंन्फोर्मेटिक्स की स्थापना की।

राहुल शर्मा को मिले अवार्ड्स 🙁 Rahul Sharma Success Story ).

  • 2016 मे डाटाक्वेस्ट द्वारा बेस्ट IT परसन आफ द ईयर।
  • हिंदुस्तान टाइम्स का गेम चेंजर अवार्ड।
  • 2014 मे फोर्च्यून मैगजीन द्वारा सर्वाधिक प्रभावशाली 40 पर्सनैलिटी अंडर 40 के लिये नामित।
  • 2010 मे फोर्ब्स परसन आफ द ईयर।
और देखें:

प्रणय चुलेट की सफलता की कहानी।

जस्टडायल की सफलता की कहानी।

जीवामे की सफलता की कहानी।

नोब्रोकर की सफलता की कहानी।

 

ApnisiBaatey